जन्मदिन विशेष – धर्मनिरपेक्षता के पैरोकार पंडित नेहरू

आज स्वंतत्रता सेनानी, भारतरत्न और भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की जयंती है. आइये हम उनके भारत के प्रधानमंत्री रहते हुए बिताये कुछ अभूतपूर्व पलों को संजोते हुए उनके एक किस्से याद करते है. अधिकांश किस्से इतिहासकार व लेख़क  रामचंद्र गुहा रचित किताब ‘इंडिया आफ्टर गाँधी’ से उद्धृत है.

आजादी के बाद वाले दशक में नेहरु की वैश्विक छवि का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 1951 में एक अमेरिकी पत्रकार ने भारत के लिए कहा था कि ‘हमारे लिए हिंदुस्तान के दो ही मतलब है अकाल और जवाहर लाल नेहरू’. आकाल इस लिए कि आजादी के कुछ समय पहले ही देश ने एक भयंकर आकाल रुपी महामारी का सामना किया था.

आजादी के बाद पटेल और नेहरू सम्बन्ध

आजादी मिलने के कुछेक सालों बाद ही सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी को अन्दर और बहार से कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा. ब्रिटिश काल में जन्मी विद्रोही भावना, आजादी मिलने के बाद वे सत्ता का सुख भोगने लगे. कांग्रेस पार्टी तब भीमकाय और आलसी हो गयी थी. नेहरू के सामने जैसे एकसाथ ही चुनौतियों का अम्बार सा लग गया था. अपने चरित्र और व्यक्तित्व के हिसाब से नेहरू और पटेल 2 ध्रुवों पर खड़े थे. हालांकि पटेल नेहरू सरकार में नंबर 2 का ओहदा रखते थे. नेहरू एक रईस परिवार से सम्बन्ध रखते थे वहीं पटेल एक कृषक परिवार से सम्बन्ध रखते थे. नेहरू एक नरम स्वभाव के और पटेल एक ‘सख्त मिजाज इन्सान थे’.

Image result for nehru and patel
फोटो क्रेडिट :THE HINDU

इतनी असमानताओं के बावजूद दोनों में कुछ समानताएं थी. दोनों घोर देशभक्त थे, उनके कार्यों और विचारों के प्रति उनकी निष्ठा में कोई कमी नहीं थी. पर सन् 1949 के आते आते दोनों में गंभीर मतभेद पनप गये थे.  आर्थिक नीतियों और सांप्रदायिकता के मुद्दे पर उनके विचारों में बुनियादी फर्क था.  जब भारत ब्रिटिश सम्राट की प्रमुखता वाले एक ‘डोमिनियन स्टेट’ से पूर्ण संप्रभु गणराज्य (रिपब्लिक स्टेट) में तब्दील होने वाला था तब नेहरू चाहते थे कि सी. राजगोपालचारी को ही गवर्नर जनरल से सीधे राष्ट्रपति बना दिया जाए. कांग्रेस पार्टी के अन्दर ‘राजाजी’ की व्यापक स्वीकार्यता भी थी. लेकिन नेहरु की तब निराशा हाथ लगी जब पटेल ने ‘राजाजी’ के बदले कांग्रेस संगठन की तरफ से राजेंद्र प्रसाद का नाम आगे करवा दिया. भारतीय स्वंत्रता की प्रथम घोषणा वाले पुराने मूल दिवस 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में चुना गया. नये राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने इस समारोह की सलामी ली. इस राजनीतिक लड़ाई की बाजी पटेल के हाथ रही.

इसके कुछ महीनों बाद ही इस राजनीतिक  शीतयुद्ध का दूसरा चेप्टर शुरू हुआ कांग्रेस के अध्यक्ष के चुनाव होना था, पटेल ने पुरुषोत्तम दास टंडन का नाम आगे किया. टंडन और और नेहरू दोनों मित्र थे, पर वैचारिक रूप से दोनों दो ध्रुवों पर खड़े थे. टंडन दक्षिणपंथी विचारधारा के बुजुर्ग हिदू थे. नेहरू की नजरों में टंडन यदि कांग्रेस अध्यक्ष चुने जाते तो बहुत ही गलत सन्देश जाता. लेकिन जब अगस्त में चुनाव हुए तो टंडन आसानी से चुनाव जीत गये. इसके बाद नेहरू ने राजगोपालचारी को पत्र लिखा कि ‘टंडन का कांग्रेस अध्यक्ष पर चुनाव मेरे सरकार  में रहने से ज्यादा महत्वपूर्ण समझा जा रहा है. मेरा अंतर्मन कह रहा कि मैं कांग्रेस और सरकार के लिए अपनी उपयोगिता खो चूका हूँ’. इसके बाद राजाजी ने दोनों धड़ो के बीच समझौता कराने की कोशिश की. और पटेल नरम रुख अख्तियार करने को राजी हो गये, लेकिन उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं के नाम से एक साझा स्टेटमेंट जारी किया जाना चाहिए कि वे(पटेल) और नेहरू कांग्रेस पार्टी के खास मौलिक नीतियों पर एकमत है. पर प्रधानमंत्री नेहरू ने अकेले ही बयान दिया. इसके 2 सप्ताह बाद नेहरू ने इस्तीफा देने की धमकी दे दी. सितम्बर 1950 को नेहरू ने एक प्रेस रिलीज कर इस बात पर खेद जताया कि ‘कुछ साम्प्रदायिक और प्रतिक्रियावादी तत्वों ने टंडन की जीत पर खुलकर ख़ुशी का इजहार किया था’.  उस समय भारत पाकिस्तान के विपरीत एक सेक्युलर देश था.

Image result for purushottamdas tandan
नेहरु के साथ पपुरुषोत्तम दास टंडन (फोटो क्रेडिट: First Post)

नेहरू की राय में यह भारत सरकार की जिम्मेदारी थी कि कांग्रेस पार्टी और वह ( सरकार ) अल्पसंख्यकों को हिंदुस्तान में सुरक्षित महसूस कराये. जबकि पटेल चाहते थे कि वे अपनी जिम्मेदारी स्वयं उठाये. अल्पसख्य्कों के मुद्दे पर नेहरू और पटेल कभी भी एक-दुसरे के कायल नहीं हो सके. पर पटेल ने इस मुद्दे को तूल देना कभी उचित नहीं समझा. क्योंकि उस समय पटेल जानते थे कि कांग्रेस पार्टी का विखंडन मतलब देश का विखंडन हो जायेगा. इसके बाद पटेल ने उनसे मिलने वाले कांग्रेसी नेताओं को कह दिया ‘वे वही करे जो जवाहरलाल  कहे’. 2 अक्टूबर 1950 को इंदौर में दिए एक भाषण में उन्होंने कहा कि ‘वे महात्मा गाँधी के बहुत सारे अहिंसक शिष्यों में से एक है, चूँकि बापू अब हमारे बीच नहीं है तो नेहरू ही हमारे नेता है’. बापू ने उनको अपना उत्तराधिकारी घोषित किया था. पटेल को महत्मा गाँधी को दिया वह वादा याद था जिसमें उन्होंने नेहरू के साथ मिलकर काम करने की बात कही थी. उस समय उनका स्वास्थ्य भी उनका ठीक नहीं था. बिस्तर पर लेटे-लेटे ही उन्होंने नेहरू के जन्मदिन पर उन्हें बधाई पत्र लिखा था’. एक सप्ताह बाद प्रधानमंत्री नेहरू उनसे मिलने घर आये तब उन्होंने कहा कि ‘जब मेरा स्वास्थ्य थोडा ठीक हो जायेगा तो मै आपसे अकेले में बात करना चाहता हूँ’.

इसके तीन सप्ताह बाद(15 दिसम्बर) ही पटेल मृत्यु हो गयी थी.  खुद प्रधानमंत्री को ही मंत्रिमंडल के शोकसंदेश लिखने की जिम्मेदारी उठानी पड़ी. नेहरू ने ‘एक एकीकृत और मजबूत भारत के निर्माण में पटेल की प्रतिबद्धता को रेखांकित किया साथ ही रजवाड़ों की जटिल समस्या सुलझाने में भी उनकी प्रतिभा की सराहना की’. पटेल और नेहरु सहयोगी भी थे और प्रतिद्वंदी भी. इस तरह पटेल और नेहरू दोनों ही महान देशभक्त, आजादी की लड़ाई के बेजोड़ योद्धा, महान जनसेवक, महान प्रतिभा और विराट उपलब्धियों वाले राजनेता थे.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.