सूरत हादसा हमें बताता है, कि हम हमारे बच्चों को लाईफ स्किल्स सिखाएं

“कुछ विषय ऐसे होते हैं जिनपर लिखना खुद की आत्मा पर कुफ्र तोड़ने जैसा है, सूरत की बिल्डिंग में आग. 21 बच्चों की मौत. आग और घुटन से घबराए बच्चों को इससे भयावह वीडियो आज तक नहीं देखा….इससे ज्यादा छलनी मन और आत्मा आज तक नहीं हुई. फिर भी लिखूंगी…क्योंकि हम सब गलत हैं, सारे कुएं में भांग पड़ी हुई है। हमने किताबी ज्ञान में … पढ़ना जारी रखें सूरत हादसा हमें बताता है, कि हम हमारे बच्चों को लाईफ स्किल्स सिखाएं

आखिर हमें शर्म कब आयेगी, सोशल मीडिया का दुरूपयोग कब बंद करेंगे ?

दुबई में काम करने वाले रोनी सिंह, जो transguard के लिए काम करता था ,को उसकी कम्पनी ने नौकरी से निकाल कर पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने cyberlaw नम्बर 5,2012 के अंतर्गत उसको सोशल मीडिया के दुरुपयोग का आरोपी मानते हुए देश से निकाल दिया। transguard के एमडी ग्रेग वार्ड ने कहा कि ऐसे मुद्दों को लेकर हमारी शून्य बर्दाश्त नीति है इसी … पढ़ना जारी रखें आखिर हमें शर्म कब आयेगी, सोशल मीडिया का दुरूपयोग कब बंद करेंगे ?

शादी करने जा रही और जस्ट मैरिड लड़कियां ये लेख ज़रूर पढ़ें

वैसे तो लिखना आजकल बन्द सा कर दिया है क्योंकि सिर भी खपाओ कीपैड भी घिसो फिर बातें भी सुनो इतना बड़ा कौन पढ़ता है, फिर भी लगातार कुछ महीनों से लड़कियों के डिप्रेशन और स्ट्रेस के इतने केस देखे कि कुछ बेसिक सजेशन देना बनता है. शादी करने जा रही/जस्ट मैरिड लड़कियों के लिये ख़ासतौर से और सभी पत्नियों के लिये आमतौर से ‘मन … पढ़ना जारी रखें शादी करने जा रही और जस्ट मैरिड लड़कियां ये लेख ज़रूर पढ़ें

व्यक्तित्व निर्माण- जब इच्छा शक्ति हो तब ही ये सम्भव है

इस निरन्तर गतिशील और भागती जिन्दगी में कुछ चीजें चाह कर भी भुला नही सकते हो. अब चाहे वो आपके अपने निजी स्तर पर कुछ सन्दर्भ हो सकते है या सामाजिक स्तर के। मेरे साथ या मेरे समाने हमेशा कुछ ऐसी अप्रत्यक्ष घटनाये हो जाती है जिनका होना मुझे अंदर ही अंदर झकजोर देता है। चाहे वो जमीन के नीचे भाग रही बेतरतीब रफ्तार वाली … पढ़ना जारी रखें व्यक्तित्व निर्माण- जब इच्छा शक्ति हो तब ही ये सम्भव है

सफ़ाई का गांधीवादी तरीका

सफाई की बड़ी समस्या है और इसमें जाति एक बड़ा कारण है कि फलानी जाति वाला ही सफाई करेगा परन्तु यह बड़ा पेचीदा मामला है. इन दिनों बैंगलोर में हूँ और कल जब एक संस्था के शौचालय में गया तो एक लिस्ट देखी जिसमे कार्यालय के सभी पुरुष कर्मियों के नाम लिखे हुए थे और हर दिन उनमे से किसी न किसी की जिम्मेदारी थी … पढ़ना जारी रखें सफ़ाई का गांधीवादी तरीका

नीति वो रूपरेखा है जो लक्ष्य को रूप देती है पहचान देती है

नीति शब्द का प्रयोग आप और हम रोज़ाना करते रहते है कभी गंभीर भाव से कभी वैचारिक भाव से कभी प्रश्न भाव से। लेकिन इसकी गहराई में में उतरकर कम ही लोग देखते है। इसका वास्तविक अर्थ, परिभाषा,प्रयोग अलग अलग लोग अलग अलग तरह से करते है जो होना भी चाहिए यह शब्द ही ऐसा है जो जितने लोगो तक जाता है उतने ही अर्थो … पढ़ना जारी रखें नीति वो रूपरेखा है जो लक्ष्य को रूप देती है पहचान देती है

स्वीकार करने की ताक़त

स्वीकार करने की ताक़त  (Power of Acceptance)———————- क्या हमने कभी भी जिंदगी में ऐसा करने की कोशिश की है, अगर नहीं तो, आज ही सिर्फ 24 घंटे के लिए ये करके देखिये, ऐसा सोचते ही, हम कितना हल्का महसूस करते हैं, …… 1. मालिक अपने कर्मचारी को या कर्मचारी अपने मालिक को. 2. पति अपनी पत्नी को या पत्नी अपने पति को. 3. अध्यापक अपने … पढ़ना जारी रखें स्वीकार करने की ताक़त