इन बलात्कारी चेहरों को पहचान लीजिये, पहला व्यक्ति पंकज सेना में है सिपाही

एक बच्ची जिसने 12वीं के इम्तेहान में अव्वल नम्बर लाये थे, जिसे प्रधानमंत्री ने सम्मानित किया था–बेटी पढ़ाओ-बेटी बढाओ के नारे के साथ, उसके सुनहरे भविष्य, इंसान पर भरोसा और सरकार की संकल्पना को तहस नहस कर दिया गया। बच्ची के पिता ने जिसे कुश्ती का चैम्पियन बनने की ट्रेनिंग दी और जिसके कारण उसे भारतीय सेना में नॉकरी मिली, उसी ने अपने पांच से … पढ़ना जारी रखें इन बलात्कारी चेहरों को पहचान लीजिये, पहला व्यक्ति पंकज सेना में है सिपाही