नितिन गडकरी मोदी को चुनौती दे रहे हैं या अपना बचाव कर रहे हैं

नितिन गडकरी फिर बोले हैं और कहा कि जनता सपने दिखा कर पूरे न करने वाले नेताओं की पिटाई भी करती है. ज़ाहिर है उनकी इस टिप्पणी को मोदी के ही संदर्भ में देखा जाएगा. पहले भी इसी तरह के बयान देकर वो मोदी को परोक्ष चुनौती दे चुके हैं. क्या ये समझा जाये कि उन्हे आरएसएस से आगे बढ्ने का इशारा मिल गया है. … पढ़ना जारी रखें नितिन गडकरी मोदी को चुनौती दे रहे हैं या अपना बचाव कर रहे हैं

राष्ट्र निर्माण का मापदंड क्या है ?

कभी संघ के विचारक देश के विकास के रूप में विश्वस्तरीय शिक्षा संस्थान, शोध संस्थान, चरक, सुश्रुत, धन्वंतरि, अश्विनीकुमारों के नाम पर, ( ये नाम भी भारतीय परंपरा के चिकित्सा शास्त्र से जुड़े प्रसिद्ध नाम हैं और संघ इन नामों पर अपना कॉपीराइट समझता है ) बड़े बड़े प्रतिभा सम्पन्न अस्पताल, चिकित्सा केंद्र , नालंदा तक्षशिला की ख्याति के अनुरूप बहु विषयीय शिक्षा केन्द्र बनाने … पढ़ना जारी रखें राष्ट्र निर्माण का मापदंड क्या है ?

नज़रिया – बदले बदले से मोहन भागवत, आखिर माजरा क्या है ?

संघ प्रमुख मोहन भागवत का भाषण चर्चा का विषय बना हुआ है। लोग उनके भाषण के निहितार्थ निकालने में लगे हैं। जिनका संघ के बारे में अध्ययन नहीं है, वे इसे संघ में बदलाव की संज्ञा दे रहे हैं। लेकिन न संघ बदला है, न ही कभी बदलेगा। दरअसल मोहन भागवत के भाषण को उसके पुराने आचरण से ही समझना होगा। इतिहास गवाह है कि … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – बदले बदले से मोहन भागवत, आखिर माजरा क्या है ?

” हिंदू तालिबान ” बन चुके न्यू इण्डिया में आपका स्वागत है

देश में ख़ास तौर से उत्तर भारत के राज्य हरियाणा, उत्तरप्रदेश दिल्ली में नफ़रत का स्तर का अंदाज़ा आप इस खबर से लगा सकते हैं. क्या ये आपको वसुधैव कुटुम्बकम वाले लोग नज़र आते हैं. जिस क्षेत्र में ये सब संघी तालिबानी फरमान जारी हुआ है, उस क्षेत्र में मुस्लिम समुदाय आर्थिक और सामजिक रूप से एक कमज़ोर समुदाय है. कुछ दिन पूर्व की एक … पढ़ना जारी रखें ” हिंदू तालिबान ” बन चुके न्यू इण्डिया में आपका स्वागत है

नज़रिया – आरएसएस की भागीदारी के बगैर सफल नहीं होता कोई आंदोलन

अपनी आंखें बंद कीजिए और सोचिए। क्या आजाद भारत में कभी आरएसएस यानी राष्ट्रीय स्वयंसेवक की भागीदारी के बगैर कोई आंदोलन कामयाब हुआ है? आजादी के लिए हुए आंदोलनों में जरूर आरएसएस अलग रहा, लेकिन आजादी के बाद हुए आंदोलनों में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से उसकी हर उस आंदोलन में भागीदारी रही है, जो गैरभाजपाई सरकार या कांग्रेस की सरकार रहते हुए हैं। कल्पना … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – आरएसएस की भागीदारी के बगैर सफल नहीं होता कोई आंदोलन

नीतीश जी, बिहार में ये क्या नंगा नाच हो रहा है?

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राजद प्रमुख तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नितीश कुमार पर जमकर हमला बोला है. उन्होंने बिहार में बढ़ रहे गुंडाराज पर ट्वीट लिया है, उन्होंने इस ट्वीट में पिछले कुछ दिनों में बढ़ी गुंडागर्दी का ज़िक्र किया है. ट्वीट में पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने सवाल करते हुए लिखा है नीतीश जी, बिहार में ये क्या नंगा नाच हो रहा है? … पढ़ना जारी रखें नीतीश जी, बिहार में ये क्या नंगा नाच हो रहा है?

नज़रिया – क्या हिंदू वोट खोने के डर से “मोब लिंचिंग” पर चुप हैं राहुल गांधी?

प्रधानमंत्री Narendra Modi के तीन मंत्री हैं, एक Dr. Mahesh Sharma वे अखलाक के हत्यारोपी की लाश पर तिरंगा चढ़ाते हैं, उसकी लाश को नमन करते हैं, लेकिन पीड़ित परिवार से नही मिलते, दूसरे हैं Giriraj Singh वे बिहार के दंगाईयों से जेल में मिलने जाते हैं, वे भी उन लोगों से नहीं मिलते जिनका दंगों में जान माल का नुकसान हुआ है। तीसरे हैं Jayant Sinha वे अदालत से अलीमुद्दीन के कत्ल … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – क्या हिंदू वोट खोने के डर से “मोब लिंचिंग” पर चुप हैं राहुल गांधी?

संघ कार्यालय जाने पर आडवाणी ने की मुखर्जी की तारीफ़

वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी ने प्रणब मुखर्जी के आरएसएस मुख्यालय जाने और भारतीय राष्ट्रवाद पर विचार व्यक्त करने को देश के समसामयिक इतिहास की ‘‘महत्वपूर्ण घटना’’ बताया है. उन्होंने कहा कि इस प्रकार खुलेपन की भावना और आपसी सम्मान के साथ विचारों के आदान प्रदान से सहिष्णुता और सौहार्द की भावना तैयार करने में मदद मिलेगी. एल के आडवाणी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का … पढ़ना जारी रखें संघ कार्यालय जाने पर आडवाणी ने की मुखर्जी की तारीफ़

शर्मिष्ठा मुखर्जी ने कहा, वही हुआ जिसका डर था

प्रणब मुखर्जी के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दीक्षांत समारोह में शामिल होने वाली एक फेक फोटो वायरल हो रही है. इसमें वे आरएसएस कार्यकर्ताओं की तरह ध्वज प्रणाम करते नजर आ रहे हैं. गुरुवार को कार्यक्रम के खत्म होने के कुछ देर बाद उनकी बेटी और कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने यह फोटो ट्विटर पर शेयर कर कहा- जिसका डर था वही हुआ. मैंने अपने … पढ़ना जारी रखें शर्मिष्ठा मुखर्जी ने कहा, वही हुआ जिसका डर था

संघ के प्रोग्राम में क्या बोले प्रणब मुखर्जी ?

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने गुरुवार को आरएसएस मुख्यालय में अपनी बात रखी. यहां उन्होंने प्राचीन भारत के इतिहास, दर्शन और राजनीतिक पहलुओं का जिक्र किया. इस दौरान उन्होंने महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू, बाल गंगाधर तिलक और सरदार पटेल समेत कई अन्य नेताओं के विचारों को याद किया. आइए जानते हैं राष्ट्र राष्ट्रभक्ति और राष्ट्रवाद पर क्या बोले प्रणब मुखर्जी… राष्ट्र, राष्ट्रीयता और राष्ट्रभक्ति … पढ़ना जारी रखें संघ के प्रोग्राम में क्या बोले प्रणब मुखर्जी ?

क्या प्रणब मुखर्जी के बहाने संघ के निशाने में है बंगाल ?

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी आरएसएस के एक प्रोग्राम में शामिल होने वाले हैं, जहाँ पर वो अपना संबोधन भी देंगे. प्रणब मुखर्जी के इस क़दम से राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का दौर चालु हो गया है. उनके इस क़दम पर कहीं आलोचना तो कहीं समर्थन दिखाई दे रहा है. प्रणब मुखर्जी 7 जून को आरएसएस मुख्यालय में संघ के कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे. यह कार्यक्रम नागपुर … पढ़ना जारी रखें क्या प्रणब मुखर्जी के बहाने संघ के निशाने में है बंगाल ?

गांधी के साथ,या गांधी के ख़िलाफ़?

एक एक कर बारी बारी चारों गोलियाँ सीने को चीरते हुए उसमे समा गई और महज़ उन बंदूक से निकले बारूद ने एक युग को,एक समाज को और एक विचारधारा को महज कुछ गोलियों से ढेर कर दिया,वो बूढ़ा जिस्म वही ढेर हो गया,और “हे राम” के साथ एक महात्मा को एक “हैवान” ने मौत के घाट उतार दिया,लेकिन क्या गांधी उस दिन मर गए … पढ़ना जारी रखें गांधी के साथ,या गांधी के ख़िलाफ़?

वे डरते हैं, कि एक दिन लोग उनसे डरना बंद कर देंगे

भीमा कोरेगांव में दलितों पर हमले और उसके बाद महाराष्ट्र में घटी घटनाओं पर बयान मुझे महाराष्ट्र में एक कार्यक्रम के लिए और भी समाजसेवकों एवं बुद्धजीवियों के साथ बुलाया गया था. और हम सभी वहां मेहमान के तौर पर गए थे. मैं मुंबई और पुणे में मुझे मिले अपार समर्थन एवं प्यार को ताउम्र याद रखूंगा. मुझे वहां मौजूद लोगों के द्वारा मनुवादी ताकतों … पढ़ना जारी रखें वे डरते हैं, कि एक दिन लोग उनसे डरना बंद कर देंगे

पांच साल में बीजेपी को चंदे में मिले 80,000 करोड़ : अन्ना हजारे

अन्ना हजारे आजकल फिर से चर्चा में है. अन्ना केंद्र सरकार के खिलाफ आंदोलन करने की तैयारी में है. और अन्ना ने बीजेपी पर हमलावर रुख अपनाया हुआ है. अन्ना ने बीजेपी पर चंदे से सम्बंधित गंभीर आरोप लगाए है. क्या आरोप लगाए है? बीजेपी सरकार पर हमला बोलते हुए शुक्रवार को अन्ना ने कहा कि ‘पिछले तीन साल के एनडीए शासन काल में भारत … पढ़ना जारी रखें पांच साल में बीजेपी को चंदे में मिले 80,000 करोड़ : अन्ना हजारे

RSS के पहले, अंग्रेज़ों ने रची थी ताज महल को ध्वस्त करने की साज़िश!

ताज महल और उत्तर भारत का वर्ग संघर्ष RSS द्वारा स्वतंत्रता संग्राम आन्दोलन से दूरी अख्तियार करने की वजह से अंग्रेज़ सरकार ने इनाम के तौर पर इनको फलने फूलने दिया। संघ के लोग अंग्रेज़ सरकार के लिए स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की जासूसी करते थे। संघ और अंग्रेज़ दोनों को ही मुग़लों से भारी नफरत रही है। औपनिवेशवाद और फ़ासीवाद के विरोध के प्रतीक के … पढ़ना जारी रखें RSS के पहले, अंग्रेज़ों ने रची थी ताज महल को ध्वस्त करने की साज़िश!

क्या केरल की जनता के दिलों से राजा महाबली का प्यार निकाल पायेगा संघ

ये कार्टून बार बार दिख रहा इसमें दो लोग दिख रहे हैं. उनका पहनावा आज के दौर के प्रचलन से अलग है. तस्वीर पर ओणम गुदा हुआ है. ओणम है, तो जाहिर है केरल भी नत्थी होगा. इसकी आड़ में एक खास विचारधारा के लोग गौरी लंकेश की हत्या को न्यायसंगत बता रहे हैं. कह रहे हैं कि गौरी लंकेश की विचारधारा गलत थी.सोशल मीडिया … पढ़ना जारी रखें क्या केरल की जनता के दिलों से राजा महाबली का प्यार निकाल पायेगा संघ

व्यंग़ – बहुरुपिया देवता श्री रामोदी

आजकल हमारे देश में एक नए देवता पैदा हो गए हैं। अब वे खुद ही पैदा हुए या उन्हें भक्तों ने पैदा किया, यह कहना कठिन है। जो भी हो, देवता तो वे अब हो ही चुके हैं। जैसे सभी देवताओं की कुछ अजीबोगरीब विशेषताएं होती हैं, वैसे ही इनकी भी हैं। इनकी मगर कुछ ज्यादा ही हैं। जैसे बहुत सारे देवताओं में कुछ मनुष्यों … पढ़ना जारी रखें व्यंग़ – बहुरुपिया देवता श्री रामोदी

(मत) बोल के आजाद (नहीं) हैं लब तेरे

देश बदल रहा है। अब बोलने पर पाबंदी आयद की जा रही है। तरीका अलग है। यूं संवैधानिक तौर पर बोलने की आजादी है, लेकिन बोलना गुनाह बना दिया गया है। कह दिया गया है कि अगर बोलना है, तो सत्ता के समर्थन में बोलिए। हमारी हर नीति का समर्थन कीजिए। जो नहीं करेगा, वह देश विरोधी है, पाकिस्तान का एजेंट है। अगर बोलने वाला … पढ़ना जारी रखें (मत) बोल के आजाद (नहीं) हैं लब तेरे

देश में पनप रहा है भीड़ तंत्र

एक भीड़ है। उस पर किसी का नियंत्रण नहीं है। वह आजाद है। कहीं कहीं उसे सत्ता संरक्षण मिला हुआ है, तो कहीं वह कानून को धता बताते हुए मनमानी करती है। अब उस भीड़ की एक पहचान भी बन गई है। गले में भगवा पट्टा। हाथ में स्मार्ट फोन। स्मार्ट फोन इसलिए कि अपनी कारगुजारी रिकॉर्ड भी करनी है, ताकि उनके आकाओं को पता … पढ़ना जारी रखें देश में पनप रहा है भीड़ तंत्र

नफ़रत की उपजाऊ ज़मीन है, सोशल मीडिया पर ब्रेनवाश का सिस्टम

हमारे भारत में बहुत लोग बसते हैं। हमारी तादाद भारी है। उसमें नयी उम्र के लोग कहिये तो काफी से भी ज्यादा हैं। हमारे इस प्यारे से देश में आज भी गाँव और छोटे शहर ही ज्यादा हैं। और ऐसे हर शहर और हर छोटे-बड़े गाँव में पल रहे युवाओं में फैशन का शौक टीवी के रंगीन पर्दों ने कुछ ऐसा डाला कि अब वे … पढ़ना जारी रखें नफ़रत की उपजाऊ ज़मीन है, सोशल मीडिया पर ब्रेनवाश का सिस्टम