व्यक्तित्व – नफ़रत के खिलाफ़ हर आंदोलन का हिस्सा होते हैं “नदीम खान”

व्यक्तित्व में हम आज बात करेंगे नदीम खान की, देश की राजधानी दिल्ली में रहने वाले नदीम अपने सोशल वर्क और ज़मीनी सक्रियता से पिछले कुछ समय से सोशल एक्टिविज़्म का जाना माना चेहरा बन चुके हैं. मानव अधिकार से संबंधित कोई ऐसा मुद्दा नहीं मिलेगा जहाँ नदीम खान की मौजूदगी न हो. यूनाईटेड अगेंस्ट हेट नामक कैम्पेन को सफलता के साथ सुचारू रूप से … पढ़ना जारी रखें व्यक्तित्व – नफ़रत के खिलाफ़ हर आंदोलन का हिस्सा होते हैं “नदीम खान”

जेएनयू से संदेश – एक नया ध्रुवीकरण बन रहा है

मैं हमेशा मानता रहा हूँ कि जेएनयू का आइडियलिज़्म बाहर की दुनिया से मेल नहीं खाता है – इसीलिये वहां के चुनाव को कैंपस के बाहर की राजनीति का बैरोमीटर नहीं माना जा सकता है. लेकिन नरेंद्र मोदी के दिल्ली आने के बाद मैंने इस धारणा पर नए सिरे से सोचना शुरू किया. प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी और आरएसएस और बीजेपी की नई व्यवस्था … पढ़ना जारी रखें जेएनयू से संदेश – एक नया ध्रुवीकरण बन रहा है