ख़त्म कर दीजिये सेंसर बोर्ड – मनीष तिवारी

कांग्रेस सरकार में सूचना एवम् प्रसारण मंत्री रहे मनीष तिवारी ने रविवार को कहा कि केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) यानि सेंसर बोर्ड को खत्म कर दिया जाना चाहिए. उन्होंने ट्विटर के जरिये ट्वीट कर अपनी राय रखी और कहा – “मेरी समझ से प्रसून जोशी को जयपुर साहित्य उत्सव में ससम्मान शामिल होना चाहिए. अच्छे लोगों को बुराई को अच्छाई तक लाने के लिए … पढ़ना जारी रखें ख़त्म कर दीजिये सेंसर बोर्ड – मनीष तिवारी

Is BJP Leaders Helped Karni Sena To Make a Vote Bank

In a string operation by a major TV News Channel, Raj Purohit, BJP MLA and Chief Whip in Maharasthra, acknowledged that it’s his government which has allowed a free hand to Karni Sena, so that they can win in the the upcoming elections in Rajasthan. He says, “Government is not in a mood to hurt them. If they torch vehicles, then it’s good.” “BJP has … पढ़ना जारी रखें Is BJP Leaders Helped Karni Sena To Make a Vote Bank

पदमावत से हटाये गए बैन को करणी सेना डबल बेंच में देगी चुनौती

संजय लीला भंसाली को  सुप्रीम कोर्ट से राहत मिल गयी है. सुप्रीम कोर्ट ने मूवी पद्मावत की रिलीज को हरी झंडी दे दी है.इसी के साथ विभिन्न राज्यों के ‘पद्मावत’ पर लगाया गया बैन भी हटा दिया गया है. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा ने कहा कि जब बैंडिट क्वीन रिलीज हो सकती है तो ये फिल्‍म क्यों रिलीज नहीं हो सकती. सुप्रीम कोर्ट … पढ़ना जारी रखें पदमावत से हटाये गए बैन को करणी सेना डबल बेंच में देगी चुनौती

पत्रकार जिनेन्द्र सुराना को मिली म.प्र. हाईकोर्ट से राहत

मध्य प्रदेश के पत्रकार जिनेन्द्र सुराना को उनकी फेसबुक टिप्पणी के मामले में हाई कोर्ट ने राहत दी है। संजय लीला भंसाली की फिल्म पदमावती को लेकर चल रहे विवाद के बीच उन्होंने शिवराज सरकार की रेप पीड़िताओं को पद्मावती अवॉर्ड देने की योजना पर सवाल उठाते हुए कॉमेंट किया था। इस पर मध्य प्रदेश की खरगोन पुलिस ने उनके खिलाफ रेप की एफआईआर दर्ज … पढ़ना जारी रखें पत्रकार जिनेन्द्र सुराना को मिली म.प्र. हाईकोर्ट से राहत

नाम बदलकर हुआ “पद्मावत”, विरोध जारी रखेगी करणी सेना

पिछले कई दिनों से पद्मावती पर चल रही हलचल अब शांत हो सकती है. यह मूवी कई दिनों से अटकी हुई थी. अब सेंसर बोर्ड संजय लीला भंसाली की फ‍िल्‍म पद्मावती को U/A सर्टिफ‍िकेट देने पर व‍िचार कर रहा है, साथ इस फ‍िल्‍म के नाम को भी बदलने की सलाह दी है. मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो सेंसर बोर्ड ने फिल्म को 26 कट्स के साथ … पढ़ना जारी रखें नाम बदलकर हुआ “पद्मावत”, विरोध जारी रखेगी करणी सेना

फ़िल्म पदमावती के विरोध और समर्थन में राजनीति

लगातार फ़िल्म के निर्देशन की कारण घेरे जाने वाले मशहूर फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली ओर पूरी कास्ट टीम भी पद्मावती के तथाकथित विवाद पर चुप्पी तो तोड़ चुके है पर वो चुप्पी भी एक औपचारिक एवम शालीनता वाली दिखी इसके उलट विरोधी समाज की भाषा और दावो पर गौर किया जाये तो उसमें वास्तविकता के अलावा राजनीति ज्यादा झलकती नजर आ रही है । … पढ़ना जारी रखें फ़िल्म पदमावती के विरोध और समर्थन में राजनीति

केला गणराज्य में आपका स्वागत है

भारत वाकई एक केला गणराज्य बनने की ओर अग्रसर है। केला गणराज्य? यानी के,  ये क्या होता है जी? दरअसल आज से कई साल पहले बीबीसी  के स्टूडियो का एक वाकया याद आ गया। जब मेरे एक पुराने  साथी ने BANANA REPUBLIC का तर्जुमा यानि अनुवाद केला गणराज्य कर दिया था। मगर एक पल के लिए सोचिये न। हम केला गणराज्य ही तो हैं। केला… … पढ़ना जारी रखें केला गणराज्य में आपका स्वागत है

Would Padmavati release decide on the roads or by the censor board?

Our constitution gives us the liberty to do protest if we do not agree with someone’s whether it’s matter of government policy or any movie release or something else. But the constitution doesn’t give latitude to do violence on behalf of the protest. Protest before releasing any movie isn’t a new concept, prior we also saw the same kind of protest and controversy on the … पढ़ना जारी रखें Would Padmavati release decide on the roads or by the censor board?

चंद मुट्ठी भर गुंडों के दबाव में कथित सशक्त सरकार

सोच रहा था वीडियो ब्लॉग करूँ…मगर मन नहीं किया। फिर भी खुद को लिखने से नहीं रोक पाया। आज अखबारों में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की सूचना और प्रसारण मंत्रालय के नाम खत देखा। एक निर्वाचित , ताक़तवर , सशक्त सरकार लिखती है ,क्योंकि राज्य सरकार एक मुस्लिम त्यौहार और मेयर चुनाव की मतगणना में व्यस्त होगी,लिहाज़ा संजय लीला भंसाली की फिल्म की रिलीज़ … पढ़ना जारी रखें चंद मुट्ठी भर गुंडों के दबाव में कथित सशक्त सरकार