सरकार से जवाबतलबी जारी रहनी चाहिये

किसान कर्जमाफी और रोज़गार की मांग अगर चिढ़ाने के लिए भी की जा रही हो तो भी इसका स्वागत किया जाना चाहिये। जब से पांच राज्यों में विधानसभा के चुनाव सम्पन्न हुये हैं और भाजपा की पराजय हुयी है तब से सोशल मीडिया में एक परिवर्तन देखने को मिल रहा है। हिंदुत्व खतरे में हैं, और मंदिर वही बनाएंगे, पाकिस्तान चले जाओ आदि आदि उत्तेजनात्मक बातें … पढ़ना जारी रखें सरकार से जवाबतलबी जारी रहनी चाहिये

NDA के लिए बिहार में 2014 का परिणाम दोहरा पाना आसान नहीं होगा

लोकसभा आम चुनाव में अभी 6 महीने का समय है, और मैं आज बिहार के राजनीतिक घटनाक्रम पर चर्चा करूंगा बिहार राजनीति काफ़ी गर्म है बयानबाज़ी अपने ज़ोर पर है सारी पार्टियां अपने आप को मज़बूत में दिखाने में लगी हुई है इन सब के बीच लगभग सारी पार्टियां तैयारी में लग चुकी है. अब तक के समीकरण से इतना तो तय हो चुका है … पढ़ना जारी रखें NDA के लिए बिहार में 2014 का परिणाम दोहरा पाना आसान नहीं होगा

नज़रिया – ये नाम बदलने वाली राजनीति दकियानूसी और सांप्रदायिक कुंठा का प्रतीक है

सावरकर ने अंग्रेज़ों को माफीनामा लिखा, आपने उन्हें ‘वीर’ माना और सावरकर के नाम के साथ वीर सावरकर लिख दिया, किसी ने रोका क्या? पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने देश में सांप्रदायिक बीज बोने में महत्तवपूर्ण योगदान दिया, आपने उन्हें अपना आदर्श माना किसी ने रोका क्या? आपने दीन दयाल उपाध्याय के नाम मुग़ल सराय रेलवे स्टेशन पर टांग दिया यह आपका नैतिक पतन था, आप … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – ये नाम बदलने वाली राजनीति दकियानूसी और सांप्रदायिक कुंठा का प्रतीक है

नज़रिया – क्या देश के ही नागरिकों से भेदभाव कर विश्वशक्ति बन पायेगा भारत?

कल मेरे एक संघी मित्र ने कहा कि आप क्या सोचते हैं कि – “यदि देश का बटवारा नहीं हुआ होता तो आज भारत दुनिया की एक बड़ी शक्ति होता ?” मैंने कहा – “निश्चित रूप से परन्तु भारत दुनिया की एक बड़ी शक्ति बटवारे के बावजूद भी बन सकता था यदि देश में देशवासियों के ही एक वर्ग के प्रति दूसरे वर्ग से घृणा … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – क्या देश के ही नागरिकों से भेदभाव कर विश्वशक्ति बन पायेगा भारत?

प्रताड़ित मुस्लिमों के पक्ष में मत दिखो, भाजपा का फायदा हो जाएगा

एक नया नैरेटिव है कि जिन्ना पर मत बोलो, भाजपा को फायदा हो जाएगा। प्रताड़ित मुस्लिमों के पक्ष में मत दिखो, भाजपा का फायदा हो जाएगा। तो राय साहब का इसपर कुछ मत है। क्या है न सर की सही चीज के लिए फायदा और नुकसान की परवाह नहीं करनी चाहिए। भाजपा आज पूरे देश में काबिज है। मुल्क 1970 के दशक वाले वन पार्टी … पढ़ना जारी रखें प्रताड़ित मुस्लिमों के पक्ष में मत दिखो, भाजपा का फायदा हो जाएगा

ज़रा सोचियेगा ! अगर तुम्हारी बेटी या बहन रेप की शिकार हो जाएँ तो ?

शर्म और हया जिसे इस्लाम में ईमान का एक हिस्सा कहा गया है. तुम्हें वो शर्म भी नहीं आई, तुम उस बच्ची गीता को भाभी कह कह कर पोस्ट कर रहे हो. मैंने देखा तुम्हारी आई-डी, अच्छे से चैक किया. तुम ये जस्टीफ़ाई कर रहे थे कि गीता अपनी मर्ज़ी से शाहबाज़ के साथ गई. सीसीटीवी के आधार पर तुम ये बात लिख रहे हो, … पढ़ना जारी रखें ज़रा सोचियेगा ! अगर तुम्हारी बेटी या बहन रेप की शिकार हो जाएँ तो ?

निष्पक्ष होने की ज़रूरत है

हमारे देश में लगातार बलात्कार की घटनाये बढ़ती जा रही है. सबसे ज़्यादा दुःख की बात ये है कि छोटी मासूम बच्चियों के साथ ऐसी हैवानियत की जा रही है. अगर हम अपने देश को इस अपराध में देखे तो देश मे बालात्कार चौथे नम्बर पर आता है. यानी देश मे पैदा होने वाली लड़की आने वाले समय मे महफूज़ नही है. स्कूल से लेकर … पढ़ना जारी रखें निष्पक्ष होने की ज़रूरत है

नज़रिया – ये सारे शहर में दहशत सी क्यूँ है?

कुछ सालों से भारत में धार्मिक त्यौहार एक त्यौहार के तौर पर नहीं मनाकर धौंस, धमकी, भयभीत करने और अपना मानसिक प्रदूषण निकालने का जरिया ज़्यादा बना गए हैं, पिछले दिनों टोंक में और देश के कई शहरों में हिंदू नव वर्ष के शुभारंभ के अवसर पर निकाले गए जुलूस के दौरान आगज़नी, मारपीट और हिंसा की घटनाये हुई थीं. आज आदर्श पुरुष भगवान् राम … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – ये सारे शहर में दहशत सी क्यूँ है?

25 Surprising points on why BJP Lost Phoolpur and Gorakhpur

Gorakhpur and Phoolpur results have not only shocked BJP-RSS-Modi-Shah-Yogi clique. They have exposed the FASCIST-HINDUTVA GAMEPLAN and the way it can be defeated. Consider the following points Modi’s political efforts were aimed at building a new voting bloc of an Anti-Muslim, ‘Hindu poor’ in the Hindi Heartland. This was the main Reason Behind  Demonetisation. If you analyse, What has been Modi’s Contribution, his usp, his … पढ़ना जारी रखें 25 Surprising points on why BJP Lost Phoolpur and Gorakhpur

क्या है सोनिया गाँधी का फ़्यूचर प्लान

बड़े लंबे समय बाद सोनिया गांधी मीडिया से रूबरू  हुई जिसमें उन्होंने राजनीति और संगठन से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए,  सोनिया गांधी के इतने दिनों तक राजनीति से दूर रहने बाद मीडिया के सामने आने के कई मायने लगाए जा रहे थे लेकिन उनकी मौजूदगी और जवाबो ने सभी को संगठन में उनकी आगे की भूमिका के बारे में कुछ संकेत दिए । … पढ़ना जारी रखें क्या है सोनिया गाँधी का फ़्यूचर प्लान

नज़रिया – जनता किसी गिनती में भी है क्या ?

आपकी तादाद सिर्फ “वोट” के लिए गिनी जाती है,की ये इतनी आबादी है,वरना बताइये कहा है आपकी गिनती? क्या समझते है आप 110000 हज़ार करोड़ के घोटालें,9000 करोड़ का गबन और 2 लाख करोड़ का स्कैम ये जो बड़ी बड़ी गिनतियां आपको गिनाई जा रही है ये क्या है। ये इतनी बड़ी बड़ी रकमें मज़ाक है उस “एलीट” तबके के लिए जो अपनी मर्जी से,चॉइस … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – जनता किसी गिनती में भी है क्या ?

क्योंकि किसी का भी मरना हमारे लिए कोई मायने है ही नही

हम उस दौर में है जहाँ “मायनों” की मौत हो चुकी है,मुझे नही पता उन्हें दफ़न किया गया है या जलाया गया है,लेकिन वो मर गए है,उनकी मौत ही ने हमे खोखला कर दिया है। क्योंकि अब हमें हैरत ही नहीं होती है किसी की मौत पर,ये एक मामूली बात हो गयी है,क्योंकि ये चीज़ अब हमारे लिए मायने रख ही नही रही है। ये … पढ़ना जारी रखें क्योंकि किसी का भी मरना हमारे लिए कोई मायने है ही नही

गांधी के साथ,या गांधी के ख़िलाफ़?

एक एक कर बारी बारी चारों गोलियाँ सीने को चीरते हुए उसमे समा गई और महज़ उन बंदूक से निकले बारूद ने एक युग को,एक समाज को और एक विचारधारा को महज कुछ गोलियों से ढेर कर दिया,वो बूढ़ा जिस्म वही ढेर हो गया,और “हे राम” के साथ एक महात्मा को एक “हैवान” ने मौत के घाट उतार दिया,लेकिन क्या गांधी उस दिन मर गए … पढ़ना जारी रखें गांधी के साथ,या गांधी के ख़िलाफ़?

‘Love Jihad’ – a murderous gambit.

Love Jihad – a new political agenda on the table of Indian politicians to divide the majority and the minority communities of India. It’s an alleged activity where Muslim men pretend love to trap non-Muslim women, and later convert them to Islam. Saffron right-wing organizations and their well-oiled media machines have worked as a cannon-fodder causing great deal of civil unrest in the country. According … पढ़ना जारी रखें ‘Love Jihad’ – a murderous gambit.

नज़रिया – मज़ाक उड़ाने का विषय नहीं रहे “राहुल गांधी”

यह लेख मूलतः विख्यात अमरीकी अखबार वाशिंगटन पोस्ट में अंग्रेज़ी भाषा में प्रकाशित हुआ था. जिसे प्रसिद्ध अंग्रेज़ी पत्रकार बरखा दत्त ने लिखा था, हमारी कोशिश होती है कि अंग्रेज़ी भाषा में लिखे गए अच्छे लेख हिंदी भाषा के दर्शकों तक पहुंचाये जाएँ. राजनीती में सबकुछ होता है, सबकुछ चलता है, सबकुछ वास्तविकता भी है और सबकुछ काल्पनिक भी, राजनीती का भ्रमजाल बेतरतीबी से गढ़ा … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – मज़ाक उड़ाने का विषय नहीं रहे “राहुल गांधी”

कही रह ना जाना खामोश तुम

जैसे नदिया शांत होकर भी अपना जोहर दिखा जाती है,जैसे हवाओं की शांत लहरें हमे त्रीपत कर देती हैं ,क्या हम वैसे समाज मे जी रहे हैं ? लगता तो नहीं है फिर भी हम ज़िये जा रहे हैं पर क्यों ? दिल्ली विश्वविधालय की एक छात्रा जब अपनी आवाज उठाने के लिए एक मंच ढूंढती है तो क्यों उसको ज़लील किया जा रहा है,हम … पढ़ना जारी रखें कही रह ना जाना खामोश तुम