नेहरू की तरह नरेंद्र मोदी के पास बौद्धिक लोगो का वर्ग नही है

4 साल सत्ता मे रहने के बावजूद नरेंद्र मोदी अपने खुद का मजबूत एलीट वर्ग (अभिजात वर्ग) तैयार करने मे नाकाम रहे हैं। उनके परम्परागत और सोशल मीडिया मे मजबूत समर्थक हैं। उनके पास कुछ बौद्धिक लोग हैं जो उनके समर्थन मे मुख्यधारा के अखबारो मे कालम लिखते हैं। कार्पोरेट वर्ल्ड मे भी उनके वफादार हैं। मिडिल क्लास मे भी ऐसे लोग जो उनकी प्रशंसा … पढ़ना जारी रखें नेहरू की तरह नरेंद्र मोदी के पास बौद्धिक लोगो का वर्ग नही है

आज़ादी के जश्न के समय क्या कर रहे थे “महात्मा गांधी”

जब अपने देश को 15 अगस्त को आजादी नसीब हुई थी, तब गांधी जी ने कहा कि आजादी की घोषणा गांवो और शहरों में एक साथ की जाये. उस समय नेहरू गाँधीजी के सबसे नज़दीक़ी शिष्य थे और नेहरू बहुत तीक्ष्ण बुद्धि वाले थे. और  उन्हें विदेशी मामलों का बहुत गहरा ज्ञान था. भारत की राजधानी नई दिल्ली मे 15 अगस्त को आधी रात को … पढ़ना जारी रखें आज़ादी के जश्न के समय क्या कर रहे थे “महात्मा गांधी”

गाँधी के भारत में क्या क्या है, सरदार पटेल के नाम पर

सरदार पटेल की जयंती के दिन उनके नाम पर खूब राजनीतिक बयानबाजियां हुई. किसी ने उन्हें श्रद्धांजलि दिया तो किसी ने उनके द्वारा लगाए गए आरएसएस पर प्रतिबन्ध और की गई टिपण्णी का ज़िक्र किया. सोशलमीडिया भी सरदार पटेल से समबन्धित पोस्ट्स से भर दी गई. फ़ेसबुक हो या ट्विट्टर सभी जगह सरदार पटेल पर चर्चा होती रही. जैसे ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा … पढ़ना जारी रखें गाँधी के भारत में क्या क्या है, सरदार पटेल के नाम पर