लोकतंत्र में राजनीति करने वालों का मिलना भी क्या अपराध होता है

अशोक गहलोत का ग़ुस्सा जायज़ है। लोकतंत्र में राजनीति करने वालों का मिलना भी क्या अपराध होता है? फिर पुलिस और ख़ुफ़िया ब्यूरो से इसकी जासूसी क्यों, कि राहुल गांधी, अशोक गहलोत, हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवानी आदि किससे मिल-मिला रहे हैं? जासूसी का धंधा गुजरात में नया नहीं। पर भाजपा को इतने ख़र्च, केंद्र के ख़ज़ाने से निकली योजनाओं, जीएसटी की पलटी, नेताओं-कार्यकर्ताओं की फ़ौज़, … पढ़ना जारी रखें लोकतंत्र में राजनीति करने वालों का मिलना भी क्या अपराध होता है