हिंदी दिवस विशेष – भाषा नहीं सिखाती किसी से बैर रखना

ये भी गज़ब है कि हिन्दी दिवस पर दो गुट एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाते हैं। पहले हिन्दी माध्यम से पढ़े जो बोलते हैं कि हिन्दी दिवस पर सबसे ज़्यादा बधाईयां वे ठेलते हैं जिनको पता ही नहीं समबाहु विषमबाहु राक्षस हैं या ज्यामितीय संरचनाएं। कभी पढ़े होते हिन्दी माध्यम से तो समझते पीड़ा। दूसरे कॉन्वेंट ब्रांड हैं जो कहते हैं कि हिन्दी बोलने … पढ़ना जारी रखें हिंदी दिवस विशेष – भाषा नहीं सिखाती किसी से बैर रखना

भीड़तंत्र के विरुद्ध उठता जनाक्रोश – #NotInMyname और काली पट्टी कैम्पेन

धन्य है रिलायंस का नेटवर्क जो हमें समय समय पर ये एहसास कराता है कि फेसबुक ही नहीं इंटरनेट और दूरसंचार सेवाओं के बिना भी जीवन सम्भव है। ये ब्रह्म ज्ञान मुझे पिछले 7 वर्षों में हर बार तब तब मिलता है, जब मैं ससुराल के पुश्तैनी घर जाती हूँ। बहुत कुछ बदल गया पर रिलायंस सेवाएं नहीं। न मैंने बदलने की कोशिश की क्योंकि … पढ़ना जारी रखें भीड़तंत्र के विरुद्ध उठता जनाक्रोश – #NotInMyname और काली पट्टी कैम्पेन