नज़रिया – 10 प्रतिशत गरीब सवर्ण आरक्षण, सवर्णों के साथ एक ऐतिहासिक धोखा है

देश के सभी सरकारी संस्थानों में 10 प्रतिशत गरीब सवर्णों का जातिगत आरक्षण लागू करने के लिए रॉकेट गति से काम हो रहा है। दिल्ली विश्विद्यालय में मीटिंग पर मीटिंग हो रही है। लेकिन दिल्ली विश्विद्यालय में यह नौकरी देने के बजाय नौकरी छीनने का हथियार साबित हो रहा है। 31 जनवरी 2019 को केंद्र सरकार की तरफ से 10 प्रतिशत आरक्षण को लेकर एक … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – 10 प्रतिशत गरीब सवर्ण आरक्षण, सवर्णों के साथ एक ऐतिहासिक धोखा है

चंद्रशेखर आज़ाद की रिहाई बहुजन आंदोलन की जीत- रिहाई मंच

लखनऊ, 14 सितम्बर 2018। रिहाई मंच ने चंद्रशेखर आज़ाद ‘रावण’ पर से उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा रासुका हटाए जाने को बहुजन आंदोलन और इंसाफ पसंद संघर्ष की जीत बताया है। रिहाई मंच अध्यक्ष मो० शुऐब ने कहा कि योगी सरकार से सुप्रीम कोर्ट ने चंद्रशेखर पर रासुका लगाए जाने के मामले में चार सप्ताह में जवाब मांगा था। सुप्रीम कोर्ट की फटकार से बचने के … पढ़ना जारी रखें चंद्रशेखर आज़ाद की रिहाई बहुजन आंदोलन की जीत- रिहाई मंच

आखिरी सांस तक अंग्रेज़ों के हाथ नहीं आये थे “आज़ाद”

देश के अमर क्रान्तिकारी चन्द्रशेखर आजाद का नाम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में चिरस्मरणीय रहेगा. चन्द्रशेखर ‘आजाद’ आजादी के ऐसे निर्भीक सेनानी थे, जिन्होनें अंग्रेज सरकार के विरुद्ध न केवल क्रान्तिकारी दल का संगठन बनाया, वरन् वे उसके सेनापति भी रहे. भगतसिंह, सुखदेव, राजगुरु बटुकेश्वर दत्त सान्याल उनके क्रान्तिकारी दल के साथी थे. किशोरावस्था से ही अंग्रेजी साम्राज्यवाद का घोर विरोध करने वाले चन्द्रशेखर … पढ़ना जारी रखें आखिरी सांस तक अंग्रेज़ों के हाथ नहीं आये थे “आज़ाद”