“3 दिसंबर 1984” – जब भोपाल में हर ओर नज़र आ रही थीं लाशें

उस रात कई आँखें सोने के लिए बंद हुईं, पर हमेशा के लिए वो आँखें बंद हो गई थीं. किसी ने ख्वाबों में भी उस तबाही के बारे में न सोचा था, जो 3 दिसंबर 1984 को भोपाल शहर के कई परिवारों को बर्बाद कर चुकी थी. जब लोग 2 दिसंबर की रात सोये थे, तब सब कुछ ठीक था. पर 3 दिसंबर की उस … पढ़ना जारी रखें “3 दिसंबर 1984” – जब भोपाल में हर ओर नज़र आ रही थीं लाशें

जब ज़हरीले गैस ने ले ली थी, भोपाल शहर की हज़ारों जानें

भोपाल गैस कांड, एक ऐसी भयावह घटना. जो शायद ही इससे प्रभावित परिवार भूल पायें हों. आज 33 साल बाद भी उस तबाही के निशाँ देखे जा सकते हैं. जब एक गैस के रिसाव की वजह से भोपाल और उसके आस-पास मातम पसर गया था. हर किसी की आँखे जलन और तकलीफ़ की वजह से रौशनी खो रही थीं, तो कुछ लोग इस दुनिया को … पढ़ना जारी रखें जब ज़हरीले गैस ने ले ली थी, भोपाल शहर की हज़ारों जानें

Bhopal Gas Tragedy: 33 Years Down of that Black Day

Bhopal is well known for its historical records, artificial lakes, and greenery but most of all, the city has reminisced across the globe for the inferior industrial catastrophe of the world. It has been 33 years since Bhopal witnessed one of the largest industrial mishaps in the world. Post-midnight on December 3, 1984, 40 tonnes of methyl isocyanate (MIC) discharged from a tank at the … पढ़ना जारी रखें Bhopal Gas Tragedy: 33 Years Down of that Black Day