नज़रिया- यह बंगाल की अस्मिता पर हमला है

कल अमित शाह जब मध्य कोलकाता के धर्मतल्ला से उत्तरी कोलकाता में विवेकानंद के निवास तक ‘जय श्री राम’ के उद्घोष के साथ रवाना हुए उसी समय यह साफ़ नजर आ रहा था कि यह चुनावी रोड शो नहीं, बंगाल के खिलाफ भाजपा का एक रण-घोष है । बंगाल की संस्कृति को पैरों तले रौंद डालने की धृष्टता का ऐलान है । जेएनयू, हैदराबाद विश्वविद्यालय … पढ़ना जारी रखें नज़रिया- यह बंगाल की अस्मिता पर हमला है

नज़रिया – तरुण गोगोई के इस ट्वीट के बाद क्या राहुल गांधी का घेराव करेंगे NRC पीड़ित

असम में चालीस लाख नागरिकों की नागरिकता ख़तरे में है। ट्वीटर पर असम के पूर्व मुख्यमंत्री श्री तरूण गोगोई ने एलान करते हुए लिखा है कि NRC उनकी दिमाग की उपज थी। असम में NRC की कोई ज़रूरत नहीं थी फिर भी हमने बनाया। 15 साल तक ये आदमी असम का मुख्यमंत्री रहा। 2001-16 तक। जिन चालीस लाख नागरिकों की नागरिकता पर आज तलवार लटक … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – तरुण गोगोई के इस ट्वीट के बाद क्या राहुल गांधी का घेराव करेंगे NRC पीड़ित

असम की राजनीति में “बदरुद्दीन अजमल” का उदय कैसे हुआ?

वह लोग भी बदरुद्दीन अजमल क़ासमी को दलाल घोषित कर रहे है जिन्हें यह भी मालूम नहीं कि असम की राजनीति का केंद्र बिंदु क्या है। असम में बदरुद्दीन अजमल के राजनीतिक उदय को समझने के लिए थोड़ा इतिहास में जाना पड़ता है। असम के दो आतंकी संगठनों “बोडो लिबरेशन टाइगर्स फ़ोर्स (बीएलटीएफ)” और “उल्फ़ा” की गतिविधियों से केवल भारत ही नहीं बल्कि विश्व परिचित … पढ़ना जारी रखें असम की राजनीति में “बदरुद्दीन अजमल” का उदय कैसे हुआ?