फ़िल्म समीक्षा – हैदर के बचपन की कहानी है ” हामिद “

बचपन उम्र से तय होता है। बचपना कई सवालों की खोज होता है। मनोविज्ञान हमेशा ‘तलाश’ शब्द के इर्द गिर्द घूमती है। जो चीजें समझ नहीं आती बचपन उसके पीछे बेतरतीब हो कर भागता है। एक जवाब ढूंढते ही दूसरे सवाल के जवाब की तलाश में बचपना खोया रहता है। हामिद एक ऐसे कश्मीरी बच्चे की कहानी है। यहाँ शायद ‘एक’ कहना गलत होगा दरअसल … पढ़ना जारी रखें फ़िल्म समीक्षा – हैदर के बचपन की कहानी है ” हामिद “

क्यों कहा एजाज़ ने “दे गोली”

अक्सर विवादों में रहने वाले फ़िल्म अभिनेता व बिग बॉस फेम एजाज खान एक बार फिर से सुर्ख़ियों में हैं, इस बार इन्होंने किसी राजनेता या उद्योगपति के खिलाफ बोलकर सुर्ख़ियां नही बटोरीं, बल्कि इस बार वह एक गाने के कारण सुर्ख़ियो में हैं, जी हां एजाज खान ने एक गाना रिकॉर्ड किया है, गाने की एल्बम का नाम “दे गोली” है और यह गाना … पढ़ना जारी रखें क्यों कहा एजाज़ ने “दे गोली”