नज़रिया – शिक्षा के बाज़ारीकरण से देश का भविष्य गर्त में जा रहा है

किसी भी राष्ट्र एंव समाज मे शिक्षा अपना विशेष व महत्वपूर्ण स्थान रखती है। राष्ट्र व व्यक्ति के निर्माण में, आर्थिक प्रगति में , सामाजिक नियंत्रण रखने में सबसे पहले शिक्षा की आवश्यकता होती है। भारतीय संदर्भ में शिक्षा भारत के विकास व सामाजिक उत्थान में कई सौ सालों से अहम भूमिका में रही है। शिक्षा व्यक्ति की समझ का निर्माण करती है उसके लक्ष्यों … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – शिक्षा के बाज़ारीकरण से देश का भविष्य गर्त में जा रहा है