सुनिए महाशय ! आप औरत को नंगा करके घुमाने वाले समाज का हिस्सा हैं.

किस्से कहानियों और फिल्मों में हम जो पिशाच का चित्रण देखते हैं, वह गलत होता है। पिशाच के दो नुकीले दांत आगे की ओर निकले नहीं होते। उसका चेहरा भयानक नहीं होता। पिशाच तो हम में से ही अच्छी शक्ल ओ सूरत वाला और पढ़ा-लिखा भी हो सकता है। पिशाच होने के लिए अशिक्षित, विक्षिप्त, अर्धविक्षिप्त या मानसिक रूप से बीमार होना भी नहीं होता। … पढ़ना जारी रखें सुनिए महाशय ! आप औरत को नंगा करके घुमाने वाले समाज का हिस्सा हैं.