नज़रिया – क्या विनोद राय को देश से माफ़ी मांगना चाहिए ?

2014 में लोकसभा चुनाव मुख्यतः दो मिद्दो को लेकर लड़ गया था पहला विकास व दूसरा भ्र्ष्टाचार। संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) की सरकार पर लगे संगीन भ्रष्टाचार के आरोपो ने नरेंद्र मोदी व भाजपा के राजनीतिक हौसले बुलंद किये।(UPA) में कांग्रेस मुख्य भूमिका में रही इसलिये गठबंधन की सरकार पर लगे आरोपों में यह भी भागीदार बनी जिसका खामियाजा लोकसभा की सिर्फ 44 सीटों पर … पढ़ना जारी रखें नज़रिया – क्या विनोद राय को देश से माफ़ी मांगना चाहिए ?