मैं अफसर बन कर मेरी जैसी और लड़कियों की मदद करुँगी

जमीन पथरीली थी और सफर आसान नहीं था. मगर 16 साल की मंजू ने बाल उम्र में किये गए विवाह को इंकार कर दिया।मंजू को जब जबरन ससुराल भेजा गया, उसने बगावत कर दी और अपने सहपाठीयो से मदद की गुहार की। स्कूल के सहपाठीयो ने प्रशासन के सहयोग से मंजू की घर वापसी करवाई। अब मंजू पढ़ लिख कर अफसर बनना चाहती है। वो … पढ़ना जारी रखें मैं अफसर बन कर मेरी जैसी और लड़कियों की मदद करुँगी

इंस्पायरेशनल स्टोरी- शिक्षा की लौ जगाने घर-घर जाते हैं ये महोदय

राजस्थान के चुरू जिले के राजगद शहर में एक सरकारी प्रधानाध्यापक की अनूठी पहल सामने आई है, वो सुबह उठते ही झुग्गी-झुग्गी घूमते हैं और बच्चों को इकट्ठा कर अपने साथ स्कूल लाते हैं. ये उनकी रोजमर्रा जिन्दगी का एक हिस्सा हैं. अगर कुछ करने का हौसला हो तो कीचड़ में भी कमल खिल सकता है ऐसा ही कुछ कर दिखाया है जयसिंह झाझड़िया ने जो … पढ़ना जारी रखें इंस्पायरेशनल स्टोरी- शिक्षा की लौ जगाने घर-घर जाते हैं ये महोदय