हिंदू महासभा ने किया राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का अपमान

हिंदू महासभा ने गांधी जी की पुण्यतिथि को शौर्य दिवस के रूप में मनाया. वायरल हुए वीडियो में संगठन की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडेय गांधी जी के पुतले को गोली मारते हुए नज़र आ रही हैं. पांडेय ने एक नकली बंदूक का इस्तेमाल कर महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारी. इसके अलावा उन्होंने गांधी के हत्यारे गोडसे को माला पहनाई और कार्यकर्ताओं में मिठाई भी बांटी. साथ ही कार्यकर्ताओं ने ‘महात्मा नाथूराम गोडसे ज़िंदाबाद’ के नारे भी लगाए.

हिंदू महासभा की इस हरकत के बाद सोशलमीडिया में बेहद तीखी प्रतिक्रियाएं आई हैं. पत्रकार आवेश तिवारी ने पूजा शकुन पाण्डेय की कुछ तस्वीरें पोस्ट की हैं. उसमें से एक तस्वीर में वो मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ नज़र आ रही है. महिला और उसके साथ ही 12 लोगों के विरूद्ध अलीगढ़ पुलिस द्वारा मुक़दमा दर्ज कर लिया गया है.

आवेश तिवारी लिखते हैं

इस तस्वीर में बापू को दोबारा गोली मारने को लेकर चर्चित ,नाथूराम की भक्त साध्वी पूजा पाण्डेय मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ हैं ,ऐसी कई तस्वीरें मेरे पास हैं ,यह तस्वीरें बताती है कि असली खेल किसका है | यह महिला हैं इसलिए असम्मान नहीं करना चाहिए लेकिन इनकी सच्चाई बताने के लिए इतना काफी है कि यह रेप के आरोप में जेल में बंद आशाराम की अनन्य उपासक हैं| एक तस्वीर में यह शिवराज सिंह चौहान को मिठाई खिला रही हैं या कुछ दे रही है।

ऐतिहासिक विषयों पर लेख पब्लिश करने वाली वेबसाईट हेरीटेज टाईम्स के संपादक उमर अशरफ ने तीख़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा

पिछली सदी में मोहनदास करमचन्द गांधी से बड़ा कोई हिन्दु पैदा ही नही हुआ. और जिस बुनियाद पर ये “हिन्दु महासभा” नामक संगठन महात्मा गांधी की तौहीन कर रही है, उसका समर्थन दर-हक़ीकत ख़ुद ‘हिन्दु महासभा’ ने किया है। पाकिस्तान रुज़ौलुशन में मुस्लिम लीग के साथ खड़ी थी हिन्दु महासभा. फिर काहे का गांधी बंटवारे का ज़िम्मेदार ?? सिंध से लेकर बंगाल तक मुस्लिम लीग के साथ सरकार हिन्दु महासभा ने बनाया है।

और इधर रोज़ हमे क्लॉस में फ़ंडामेंटल राईट्स एैंड ड्युटी पढ़ाया जा रहा है, ड्युटी में एक बात बार बार आती है के हम संविधान का पालन करे और उसके आदर्शों, संस्थाओं, राष्ट्र ध्वज और राष्ट्रगान का आदर करे और साथ ही भारत की स्वतंत्रता के लिए हमारे राष्ट्रीय आंदोलन को प्रेरित करने वाले उच्च आदर्शों को हृदय में संजोए रखे और उनका पालन करे। यानी भारत के स्वतंत्रता संग्राम के सेनानीयों की इज़्ज़त करें।

पर हिन्दु महासभा नाम का ये फ़र्ज़ी संगठन जो गांधी की शहादत के बाद तक़रीबन गुमनाम हो चुका था. इधर हर साल ना सिर्फ़ गणतंत्र दिवस को काले दिवस के रूप मे सेलिब्रेट करता है, बल्के भारत के स्वतंत्रता संग्राम के सबसे बड़े नायक की उसकी शहादत दिवस पर तौहीन भी करता है। और उसके क़ातिल को अपना हीरो मानता है।

अब तो यही लगता है, जो हमें पढ़ाया जा रहा, वो हक़ीकत में इम्पलिमेंट हो नही सकता. इस लिए उसे बदल ही देना चाहये. क्युंके क़ानून कहां क़ानून रहा ?? इसे नौटंकी बना दिया, जब दिल चाहा किसी पर भी NSA लगा दिया।