बहुत मुश्किल है ”राहुल द्रविड़” होना.

‘द वॉल’ और ‘मिस्‍टर डिपेंडेबल’. या यूं कहे टीम इंडिया के पूर्व कप्तान. टेस्ट और एकदिवसीय दोनों फॉर्मेट ने दस हजारी. इंडिया के पूर्व बल्लेबाज राहुल द्रविड़ का आज जन्मदिन है. आइए जानते हैं अपने गज़ब के डिफेन्स से गेंदबाजों के छक्के छुड़ाने वाले टीम इंडिया के इस महानतम बल्लेबाज के बारे में.

द्रविड़ भले ही क्रिकेट के”भगवान” तो नहीं रहे हो. पर, एक ऐसे साथी प्लेयर की तरह रहे जो जब भी टीम को जरूरत हुई तो वो ढाल बनकर खड़े हो जाते थे. ऑस्ट्रेलिया के महशूर गेंदबाज ब्रेट ली ने  द्रविड़ के बारे में कहा था कि ‘अगर आपको अपनी जिंदगी में राहुल जैसे लोगों से नहीं बनती है तो फिर आपके साथ गंभीर क्राइसिस है’.

Image result for rahul dravid hd

राहुल के हम टीम को किसी एक योगदान को लिखकर सीमित नहीं कर सकते क्योंकि इन्होनें जितना टीम को योगदान वो पूरा ही अतुलनीय है या अंग्रेजी में कहे कि ये पूरा ही अमेजिंग है. मेरी नजर में ये क्रिकेट के आमिर खान है. क्रिकेट के मिस्टर परफेक्ट. मेरे लिए द्रविड़ की क्रिकेट की अहमियता इसलिए बढ़ जाती है, क्योंकि जब मैं क्रिकेट का फैन बना था, तब कप्तानी द्रविड़ ही संभाल रहे थे.

Image result for rahul dravid hd
राहुल द्रविड़

शायद वो भारतीय क्रिकेट का सबसे मुश्किल दौर में था, क्योंकि तब टीम के पास अच्छे प्लेयर तो थे पर कोई अगुआई करने की हामी नहीं भर रहा था, उस समय द्रविड़ ने दिलगी दिखा टीम की अगूवाई की. तब टीम गांगुली और चेप्पल विवाद से भी उभर रही थी. धाकड़ बल्लेबाज और कप्तान गांगुली टीम से बहार किये जा चुके थे. इसी कारण उस समय राहुल को आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा था, पर राहुल ने अपनी प्रतिभा से आलोचकों को करारा जवाब दिया. हालांकि 2007 के वर्ल्डकप में द्रविड़ की टीम कुछ ख़ास नहीं कर पायी थी. पर उन्होंने टीम को पूरी तरह तरासा. और एक बहुत ही शानदार टीम धोनी के हाथों में थमाई थी. और इस टीम ने जो कमाल किये उसके तो सभी कायल है. राहुल हमेशा बहुमुखी प्रतिभा के धनी रहे है. टीम को जब जो जरुरत पड़ी राहुल ने वो किरदार निभाया सिवाय गेंदबाज के. राहुल स्लिप में बेहतरीन फील्डर भी रहे.

Image result for rahul dravid hd

राहुल की एक बात की हमेशा बात की चर्चा की जाती है, वो हद्द से ज्यादा ईमानदार और सादगी वाले रहे है. मैदान में भी और मैदान के बहार भी. पिछले दिनों एक फोटो वायरल हुई थी जिसमें वो पेरेंट्स मीटिंग में कतार में इंतज़ार करते नजर आये थे. आज के अय्याशी वाले समय में ये बेहतरीन है.

Image result for rahul dravid in queue
फोटो क्रेडिट: इंडियन एक्सप्रेस

एक और किस्सा मेरे को कहीं पढ़ा हुआ याद आता है की एक बार किसी महिला पत्रकार ने राहुल के साथ ‘प्रेंक’ करना चाहा. वो द्रविड़ को अपने एक्सप्रेशन से रिझाने लगी, पर द्रविड़ तो द्रविड़ थे. कहाँ बातों में आने वाले थे. तभी तो कहा है ‘बहुत मुश्किल है द्रविड़ होना’.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.