व्यक्तित्व – जब शहीद अब्दुल हमीद की बहादुरी के आगे ध्वस्त हुये पाक सेना के टैंक

आज 4th बटालियन, ग्रेनेडियर में तैनात हवालदार अब्दुल हमीद की शहादत दिन है। 1965 युद्ध में पाकिस्तानी सेना का सीना चीर कर उस समय के अपराजेय माने जाने वाले उसके “पैटन टैंकों” को तबाह कर देने वाले 32 वर्षीय वीर अब्दुल हमीद आज ही के दिन खेमकरण सेक्टर, तरन तारण में शहीद हुए थे. उन्हें देश के सर्वोच्च सेन्य सम्मान परमवीर चक्र से नवाज़ा गया … पढ़ना जारी रखें व्यक्तित्व – जब शहीद अब्दुल हमीद की बहादुरी के आगे ध्वस्त हुये पाक सेना के टैंक

गुरुग्राम के रेयान स्कूल में हुई घटना के जैसी घटनाओं को कैसे रोका जा सकता है

देश में सेक्सुअल अपराधों का ग्राफ लगातार बढ़ता चलाए जा रहा है इसमें एक बात ध्यान देने योग्य यह भी है कि ऐसे अपराधों की केवल 20 परसेंट खबरें ही बाहर आ पाती है अन्यथा 80% खबरें तो दब जाती है ! अब इन योन अपराधों का सबसे बड़ा कारण मानसिकता का दूषित होना है जब इंसान की मानसिकता दूषित होती है तो वह अपने … पढ़ना जारी रखें गुरुग्राम के रेयान स्कूल में हुई घटना के जैसी घटनाओं को कैसे रोका जा सकता है

ये भी तो अज़ादी ही है, कि किसे बाईट दी जाये और किसे नहीं

दो दिनों से कई पोस्ट पढ़ चुका हूं जिसमें Shehla Rashid की इस बात पर आलोचना की जा रही है कि उसने Republic के पत्रकार को क्यों हड़काया। कुछ बातें कहने को हैं: ये जो ताज़ा रिपब्लिक है और जिसका डॉन पहले TIMES NOW में था, उसने कैसी रिपोर्टिंग और कैसी डिबेट की JNU को लेकर? ज़्यादा नहीं, बस डेढ़ साल पहले की बात है। … पढ़ना जारी रखें ये भी तो अज़ादी ही है, कि किसे बाईट दी जाये और किसे नहीं

रोहिंग्या का क़त्लेआम, और म्यान्मार की नृशंसता

आपने ये बात नोट की होगी कि म्यांमार में हो रहे नरसंहार के सैंकड़ों वीभत्स फोटोज़ और वीडियोस गूगल पर आसानी से उपलब्ध हैं और वहां से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं ! इसके पीछे का मनोविज्ञान भी नृशंस है, ये डर. क़त्लेआम, और नृशंसता की मार्केटिंग है, ठीक जैसे ISIS वाले करते थे, इसके पीछे की रणनीति और सन्देश ये है कि … पढ़ना जारी रखें रोहिंग्या का क़त्लेआम, और म्यान्मार की नृशंसता

क्या आपको ये हत्याएं एक जैसी नज़र नहीं आती

मता-ए-लौह-ओ कलम छिन गई तो क्या गम है कि खून ए दिल में डूबो ली हैं उंगलियां मैंने RIP Freedom of Expression फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन का आलम ये है कि सोशल मीडिया पर अगर आप अपने देश के प्रधानमंत्री से ये पूछते हैं कि वो सिलेक्टिव साइलेंस क्यों अख्तियार करते हैं,तो आप से पलट के कहा जाएगा कि पीएम क्या हर बात पर ट्वीट करेंगे … पढ़ना जारी रखें क्या आपको ये हत्याएं एक जैसी नज़र नहीं आती

क्या केरल की जनता के दिलों से राजा महाबली का प्यार निकाल पायेगा संघ

ये कार्टून बार बार दिख रहा इसमें दो लोग दिख रहे हैं. उनका पहनावा आज के दौर के प्रचलन से अलग है. तस्वीर पर ओणम गुदा हुआ है. ओणम है, तो जाहिर है केरल भी नत्थी होगा. इसकी आड़ में एक खास विचारधारा के लोग गौरी लंकेश की हत्या को न्यायसंगत बता रहे हैं. कह रहे हैं कि गौरी लंकेश की विचारधारा गलत थी.सोशल मीडिया … पढ़ना जारी रखें क्या केरल की जनता के दिलों से राजा महाबली का प्यार निकाल पायेगा संघ

क्या है, गौरी लंकेश के धर्म के सम्बन्ध में फ़ैलाये जा रहे झूठ की वास्तविकता

पत्रकार गौरी लंकेश से सम्बन्धित एक सोशल मीडिया में फ़ैलाया जा रहा है, कि वो इसाई थीं और मिशनरी के निर्देश पर हिंदू धर्म की कुरीतियों पर कटाक्ष करती थीं. पर अफ़वाहवाज़ो के इस झूठ की वरिष्ठ पत्रकार रविश कुमार ने हवा निकाल दी है.दरअसल गौरी लंकेश एक पत्रिका निकालती थीं, जिसका नाम था “गौरी लंकेश पत्रिके”. उनकी इस पत्रिका के नाम के आखिरी शब्द … पढ़ना जारी रखें क्या है, गौरी लंकेश के धर्म के सम्बन्ध में फ़ैलाये जा रहे झूठ की वास्तविकता

इन्होंने गौरी लंकेश को मारा नहीं, बल्कि अमर कर दिया है

गौरी लंकेश मारी गयी,एक पत्रकार मारी गई, धड़ाधड़ गोलियों से उन्हें छलनी कर दिया गया,वो अपने अंत के साथ ज़मीन पर जा गिरी,ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उनका “लिखना” किसी को पंसद नही था,ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उनका “बोलना” किसी को पसन्द नही था,लेकिन क्या गोरी को लंकेश को मारा जा सकता है? क्या इस निडर पत्रकार को भुलाया जा सकता है? क्या इस एक्टिविस्ट को … पढ़ना जारी रखें इन्होंने गौरी लंकेश को मारा नहीं, बल्कि अमर कर दिया है

बोलते रहिये, चुप रहना तो मुर्दो की निशानी है

मैं गौरी लंकेश को कल के पहले नहीं जानता था, पर अब जान गया. अधिकांश लोग सवाल करते है की ये गुस्सा किस बात का ? क्या बदल गया है ? बोलने की आज़ादी तो सबको है ! तब मेरे एक मित्र कहते है की बोलने की आज़ादी तो है, पर बोलने के बाद आज़ादी नहीं है ! ये अपने आप में बड़ा ही विस्मयकारी … पढ़ना जारी रखें बोलते रहिये, चुप रहना तो मुर्दो की निशानी है

एक मुसलमान का मुसलमानों से कुछ सवाल

कुछ हज़ार कुर्ते में खर्च,पूरे महीने स्टाइल की तैयारी और गुटखे से मुंह भर कर चौराहों पर खड़े होकर अपनी “कौम” से उसके मसाइल से दिक्कतों से और “सवालों” से दूर नौंजवानों से आप उम्मीद क्यों रखवा रहें है? आप उम्मीद रखिये उनसे जो पढं रहें है,बात कर रहें है,लेकिन नही आप उनसे सवाल नही करते आप उनसे चिढ़ते है,और उन्हें “कुरीतियों” पर घेरते है,और … पढ़ना जारी रखें एक मुसलमान का मुसलमानों से कुछ सवाल

फ़्लाप शो साबित हुई नोटबंदी

प्रधानमंत्री का देश के नाम संदेश आया. 8 नवंबर रात 8 बजे. राष्ट्र के नाम ये सन्देश नोट बंदी का था. 500 और 1000 के नोट बंद किये जा चुके थे. एक पल में ये लगा कि ये कदम कितना क्रांतिकरी है. सोशल मीडिया इस कदम की सरहाना करने लगी. इसके पीछे सीधा सा लॉजिक भी यह था कि पुरानी करेंसी जितनी भी है, सब … पढ़ना जारी रखें फ़्लाप शो साबित हुई नोटबंदी

मोदी तो मुखौटा हैं, कॉरपोरेट के हिसाब से तय हो रही श्रमनीति

नौकरीपेशा लोगों के लिए…या यूं कहिए केंद्र और राज्य सरकार के कर्मचारियों को छोड़ हर नौकरीपेशा व्यक्ति के लिए…10 अगस्त 2017 को केंद्रीय श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने लोकसभा में The Code on Wages Bill, 2017 पेश किया…इसका उद्देश्य बताया जा रहा है कि असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिए पूरे देश में ‘न्यूनतम भत्ता’ निर्धारित करना है…केंद्र सरकार एक बार न्यूनतम भत्ता तय कर … पढ़ना जारी रखें मोदी तो मुखौटा हैं, कॉरपोरेट के हिसाब से तय हो रही श्रमनीति

नोटबंदी : कभी कभी लगता है कि हम असल में इतने मुर्ख है या होने का नाटक करते है

अभी अभी नोट बंदी के आकडे आये साफ़ हो गया की प्रधानमन्त्री ने अपने भाषण में नोट बंदी के जितने फायदे गिनाये थे उनमे से एक भी सफल नहीं रहा. न तो जाली नोट पकडाए, न तो काला धन पकडाया और न ही आतंकवाद ख़त्म हुआ तो सवाल है हुआ क्या. हुआ ये की अमीर हो या गरीब सब परेशान हुए, लोगों की मौते हुई, … पढ़ना जारी रखें नोटबंदी : कभी कभी लगता है कि हम असल में इतने मुर्ख है या होने का नाटक करते है

सोशल मीडिया में क्यों छाया हुआ है, #BraveHadiya ट्रेन्ड

कल से सोशल मीडिया में एक नाम खूब घूम रहा है, कोई Twitter में तो कोई फ़ेसबुक मे #BraveHadiya हैज़टैग का यूज़ कर रहा है. क्या आप जानते हैं,कौन है हादिया और क्यों Top ट्रेन्ड में रहा #BraveHadiya. दरअसल अखिला से हादिया बनीं 24 वर्षीय मेडिकल स्टूडेंट हादिया के इस्लाम धर्म अपनाने के बाद की गई शादी को केरल हाई कोर्ट ने ‘लव जिहाद’ का … पढ़ना जारी रखें सोशल मीडिया में क्यों छाया हुआ है, #BraveHadiya ट्रेन्ड