सुरेश चौहाणके ने फ़िर किया फ़ेक न्यूज और पिक्स के साथ ट्विट और fb पोस्ट

सोशल मीडिया पर कई वेब पोर्टल और वेब साइट्स दिन रात झूठ गढ़ कर तथ्यों को मरोड़ कर दुष्प्रचार कर धार्मिक उन्माद भड़का कर देश का माहौल खराब करने का काम लगातार कर रहे हैं, इनमें Dainikbharat जैसे कई वेब पोर्टल्स हैं!

मगर झूठ, दुराग्रह, मुसलमानो के प्रति झूठे मामले गढ़ कर दुष्प्रचार कर सौहार्द को पलीता लगाने में इन सब में आगे है सुदर्शन चैनल और उसके मालिक सुरेश चव्हाणके !

आज ही इन्होने अपने ट्वीटर हैंडल पर दो दिन पहले जयपुर (राजस्थान) में जनता और पुलिस के बीच ट्रैफिक को लेकर कहा सुनी के बाद हुए बवाल को रोहिंग्या मुसलमानो से जोड़ कर अफवाह फैलाई है कि ” जयपुर में #रोहिंग्या_मुस्लिम कि जाँच शुरू कि तो 25000 हज़ार कि भीड़ ने पुलिस थाने को घेर लिया।आगज़नी कि,इशारा है #DeportRohinga पर आग लगाएँगे‬ !”

बाद में चव्हाणके ने इस ट्विट को डिलीट कर दिया. पर तब तक उस ट्विट का स्क्रीनशोट वायरल हो चुका था.

 

यही झूठी खबर चव्हाणके ने अपने फेसबुक वाल पर भी शेयर की है :

जबकि सारे देश को पता है कि ये एक दंपत्ति और पुलिसकर्मी के बीच ट्रैफिक को लेकर कहा सुनी का मामला है, इसका रोहिंग्या मुद्दे से को लेना देना बिलकुल नहीं है !

उस पर बड़ा झूठ ये कि जो फोटो पोस्ट किये हैं वो जयपुर के न होकर ब्रिटैन आउट गुजरात के हैं !

होक्सलेयर की पड़ताल पर भी इसे फ़र्ज़ी पाया गया है

 

अब सवाल ये उठता है कि देश के सौहार्द और शांति के माहौल को तीली लगाने के लिए तत्पर ऐसे सांप्रदायिक बवालियों को पुलिस, ख़ुफ़िया एजेंसियों और सरकार ने ओपन हैंड क्यों दे रखा है ? क्यों इस पर झूठ और दुष्प्रचार कर देश का माहौल करने और सुदर्शन चैनल के माध्यम से मीडिया तथा सोशल मीडिया में ज़हर खुरानी करने के आरोप में कार्रवाही नहीं की जा रही ?

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.