कविता – कुछ मुसलमान भी , सीने से लगाने होंगे – “सतीश सक्सेना”

इनके आने के तो कुछ और ही माने होंगे !
जाने मयख़ाने के, कितने ही बहाने होंगे !

हमने पर्वत से ही नाले भी निकलते देखे !
हर जगह तो नहीं , गंगा के मुहाने होंगे !

धन कमाना हो खूब,मीडिया में आ जाएँ 
एक राजा के ही बस, ढोल बजाने होंगे ! 

सोंच में हो मेरे सरकार,तो कह ही डालो
आज भी अनकहे कुछ वाण चलाने होंगे !

राज आचार में, सौजन्य मुखौटा ही नहीं
कुछ मुसलमान भी, सीने से लगाने होंगे !

सतीश सक्सेना

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.