कविता: नील में रंगे सियार, तुम मुझे क्या दोगे ? – सतीश सक्सेना

अगर तुम रहे कुछ दिन
भी सरदारी में ,
बहुत शीघ्र गांधी,
सुभाष के गौरव को
गौतम बुद्ध की गरिमा
कबिरा के दोहे ,
सर्वधर्म समभाव
कलंकित कर दोगे !
कातिल, धूर्त, अंगरक्षक , धनपतियों के
नील में रंगे सियार, तुम
मुझे क्या दोगे ?

दुःशाशन दुर्योधन शकुनि
न टिक पाएं !
झूठ की हांडी बारम्बार
न चढ़ पाए,
बरसों से अक्षुण्ण रहा
था, दुनियां में ,
भारत आविर्भाव,
कलंकित कर दोगे !!
भारत रत्न मिले, तुमको मक्कारी में
कितने धूर्त महान, तुम
मुझे क्या दोगे ?

है विश्वास मुझे तुम
जल्दी जाओगे !
बस अफ़सोस यही
अपयश दिलवाओगे
पंचशील सिद्धांत ,
सबक इतिहासों का
दोस्त रूस को भुला
विश्व में जा जाकर ,
बचा खुचा सम्मान समर्पित कर दोगे
हे अभिनय सम्राट , तुम
मुझे क्या दोगे ?

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.